दोस्त रूस ने माना भारत का अनुरोध, नहीं करेगा POK में संयुक्त अभ्यास

भारत के पुराने सामरिक साझीदार देश ने नई दिल्ली की चिंताओं को समझते हुए पाकिस्तान के साथ पाक अधिकृत कश्मीर में संयुक्त युद्धाभ्यास न करने का भरोसा दिया है। विदेश मंत्रालय के उच्च पदस्थ सूत्र बताते हैं कि मास्को ने नई दिल्ली के अनुरोध को मान लिया है।

उसने भारत को भरोसा दिया है कि वह पाकिस्तान के साथ पहले से निर्धारित युद्धाभ्यास तो करेगा, लेकिन इसे पाक अधिकृत कश्मीर में नहीं करेगा। सूत्र बताते हैं कि पाकिस्तान के साथ रूस के सैन्य संबंधों की भारत के साथ तुलना ही नहीं की जा सकती। पाकिस्तान अगले कई दशकों में भी रूस का वह विश्वास और सहयोग हासिल नहीं कर सकेगा। इसलिए यह सैन्य अभ्यास भारत के लिए चिंता का सबब नहीं है, लेकिन इसी के साथ यह भी सही है कि भारत अपने विश्वसनीय और अब तक के सबसे बड़े सामरिक साझीदार रूस के साथ पाकिस्तान की नजदीकी को भी नहीं देखना चाहता। बताते हैं नई दिल्ली ने मास्को को अपनी इस चिंता से भी अवगत करा दिया है।

loading...