26/11 मुंबई आतंकी हमले को लेकर बहुत बड़ा सनसनीखेज खुलासा हुआ है। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो मुंबई हमले के वक्त गृह मंत्रालय के कुछ अधिकारी पाकिस्तान के मेहमान बने हुए थे। हमले के ठीक पहले भारत और पाकिस्तान के बीच गृह सचिव स्तर की वार्ता हुई थी। वार्ता होने के बाद भारत के तत्कालीन गृह सचिव और कई अफसर जब भारत लौट रहे थे तभी पाकिस्तान के आग्रह पर वहां एक दिन और रुक गए थे। पाक सरकार ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल को हिल स्टेशन मुरी में ठहराया था। सवाल उठ रहा है कि आखिर ऐसे हालात में अधिकारी भारत क्यों नहीं लौटे?

इस सनसनीखेज खुलासे के बाद गृह मंत्रालय में अंडर सेक्रेट्री रहे आरवीएस मणि ने भी इस बात की पुष्टि की है कि मुंबई हमले के वक्त भारत सरकार के एक डिलेगेशन ने पाकिस्तान में अपना स्टे बढ़ाया था। ये स्टे वहां की सरकार के अनुरोध पर बढ़ाया गया था। आरवीएस मणि का कहना है कि उच्च अधिकारियों के पाकिस्तान में होने की वजह से शुरू शुरू में इस हमले के खिलाफ रणनीति बनाने में देरी हुई।

loading...