आतंकवाद पर एक साथ अटैक करेंगे भारत, अमेरिका और अफगानिस्तान

आतंकवाद से लड़ने के लिए भारत, अमेरिका और अफगानिस्तान ने अपने साझा हितों की पुष्टि की है। तीनो देशों ने आतंकवाद का मुकाबला करने और क्षेत्र में शांति तथा सुरक्षा को मजबूत करने में अपने साझा हितों की पुष्टि की है। साथ ही तीनों देशों ने अफगान सरकार की प्राथमिकताओं के साथ इस युद्ध प्रभावित देश में समन्वय एवं सहायता के लिए रास्ते भी तलाशे।

अफगानिस्तान में भारतीय राजदूत मनप्रीत वोहरा, अफगान उप विदेश मंत्री हिकमत करजई और अफगानिस्तान तथा पाकिस्तान के लिए विशेष अमेरिकी प्रतिनिधि रिचर्ड ओल्सन ने कल 71वीं संयुक्त राष्ट्र महासभा से अलग त्रिपक्षीय विचार विमर्श के दौर के लिए मुलाकात की। वोहरा, करजई और ओल्सन ने अफगानिस्तान में स्थिति तथा परस्पर हित के क्षेत्रीय मुद्दों पर अपने विचारों का आदान प्रदान किया।

बैठक के बाद जारी एक त्रिपक्षीय बयान में कहा गया कि क्षेत्र में शांति और सुरक्षा को मजबूत करने और आतंकवाद से मुकाबला करने के लिए साझा हितों की पुष्टि की गई। सभी पक्षों ने क्षेत्रीय पहलू सहित अफगानिस्तान में राजनीतिक, आर्थिक और विकास लक्ष्यों पर केंद्रित बहसों का स्वागत किया।

बयान में कहा गया है कि वह इस बात पर सहमत हुए कि साझा मूल्यों और लक्ष्यों को आगे बढ़ाने में बातचीत मदद करती है । उन्होंने नियमित आधार पर इन विचार विमर्श को जारी रखने का फैसला किया। अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने पिछले माह अपने भारत दौरे में कहा था कि वॉशिंगटन नयी दिल्ली और काबुल के साथ वर्ष 2013 में बाधित हुई त्रिपक्षीय वार्ताओं को संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक से अलग शुरू करेगा ।

loading...