हिन्दू धर्म के समुद्रशास्त्र में त‌िल का आपके विशिष्ठ अंगों पर मौजूद होने का मतलब बताते हुए उल्लेख क‌िया गया है। ज‌िनमें यह 10 अंग ऐसे हैं जहां त‌िल होने का मतलब है क‌ि आपको धन की कमी कभी नहीं रहेगी। देख‌िए और जानिये कि आपके उन विशिष्ठ अंगों पर त‌िल है क्या?

नाभि पर तिल
समुद्रशास्त्र के अनुसार पेट पर मौजूद त‌िल को शुभ नहीं माना जाता है। यह तिल व्यक्त‌ि के दुर्भाग्य का सूचक माना जाता है लेक‌िन अगर त‌िल नाभ‌ि के आस-पास हो तब व्यक्त‌ि को धन समृद्ध‌ि की प्राप्त‌ि होती है।

पीठ पर तिल
पीठ पर अगर त‌िल है तो व्यक्त‌ि के रोमांट‌िक होने के साथ साथ धनवान होने का सूचक होता है। ऐसा व्यक्त‌ि खूब कमाता है और खूब खर्चा करता है।

पैर के अंगूठे पर तिल
पैर के अंगूठे पर त‌िल होने का मतलब है क‌ि आप समाज में सम्मान होगा और आप संपन्‍न व्यक्त‌ि होंगे।

ठोड़ी पर त‌िल
ज‌िस व्यक्त‌ि के ठोड़ी पर त‌िल होता है उन्हें कभी धन का अभाव नहीं रहता।

तर्जनी अंगुली पर तिल
ज‌िस व्यक्त‌ि की तर्जनी उंगली पर त‌िल होता है वह धनवान होता है।

अनाम‌िका उंगली के मध्य में त‌िल
अनाम‌िका उंगली के मध्य में त‌िल व्यक्त‌ि को धनवान और यशस्वी बनाता है।

नाभि के नीचे तिल
ज‌िसके नाभ‌ि के थोड़ा नीचे त‌िल होता है उसे धन की कमी कभी नहीं रहती है।

भौंह के मध्य में तिल
भौंह के मध्य में त‌िल का होना बहुत ही शुभ माना गया है। यह दांपत्य जीवन के अलावा धन धान्य के ल‌िए भी बढ‌िया माना गया है।

नाक के दायीं ओर त‌िल
ज‌िनके नाक के दायीं ओर त‌िल होता है उन्हें कम मेहनत में ही धन का लाभ म‌िलता रहता है।

ठोड़ी पर त‌िल
ज‌िस व्यक्त‌ि के ठोड़ी पर त‌िल होता है उन्हें कभी धन का अभाव नहीं रहता।

loading...